Happy Friendship Day Status in Hindi

Happy Friendship Day Status in Hindi

Happy Friendship Day Status in Hindi
Happy Friendship Day Status in Hindi

Happy Friendship Day Status in Hindi

आसमान से तोड़ कर ‘तारा’ दिया है| आलम ए तन्हाई में एक शरारा दिया है| मेरी ‘किस्मत’ भी ‘नाज़’ करती है मुझे पे| खुदा ने ‘दोस्त’ ही इतना प्यारा दिया है…

Teri Muskurahat Meri Pehchan Thi, Teri Khusi Meri shaan Thi, Kuchh Bhee Nahii tere bina Meri Jindaagi me, Bas Itna Samaj Le, Teri Dosti Hee Meri JAAŅ Thi……

Kamyabi Badi Nahi Paane Wale Bade Hote Hai. Zakhm Bade Nahi Bharne Wale Bade Hote Hai. Itihas Ke Har Panne Pe Likha Hai. Dosti Badi Nahi Nibhane Wale Bade Hote Hai?

Jab Se Aapko Jana Hai, Jab Se Aap Sa Dost Paya Hai, Har Dua Me Aap Ka Naam Aaya Hai, Dil Karata Hai Punchu Us Rab Se Ke, Kya Itna Pyara Dost Sirf Mere Liye Banaya Hai?

Kabhi kabhi dosti me b duriya aa jati h Phir b succhi dosti dilo ko milati hain.. Voh dost hi kya jo kabhi naraj na ho… Par succhi dosti hi dosto ko manati hai

Kyun muskilo mein sath dete hain dost Kyun gumo ko baant lete hain dost…… Na rishta khun ka, na hi riwaz se bandha Fir bhi Zindagi bhar ka sath dete hai dost

Jab se aapko jana hai, Jab se aap sa dost paya hai, Har dua me aap ka naam aaya hai, Dil karata hai punchu us rab se ke, Kya itna pyara dost sirf mere liye banaya hai.

Sabse alag sabse pyare ho aap, Tarif puri Na ho itne pyare ho aap, Aaj pata chala ye zamana Q jalta he aapse, Qki frnd to Aakhir hamare ho Aap.

Zindagi ek railway station ki tarah hai. Pyar ek train hai jo aati hai aur chali jaati he. Par dosti enquiry counter he. Jo hamesha kehti he MAY I HELP U.

“जिन्गदी नहीँ हमेँ दोस्तोँ से प्यारी दोस्तोँ पे है हाज़र जान हमारी आँखोँ में हमारे आँसू हो तो क्याँ जान से भी प्यारी है मुस्कान तुम्हारी!”

“जब I ने U से प्यार किया हर जिन्दगी को एक किनारा चाहिए हर शक्स को ऐक सहारा चाहिए जिन्दगी कट सके हंसते-हंसते इसलिये दोस्त आप-सा ऐक प्यारा चाहिए !”

“किस हद तक जाना है ये कौन जानता है, किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है, दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो, किस रोज़ बिछड जाना है ये कौन जानता है.!”

आना हमारा किसी को गवारा ना हुआ हर मुसाफिर ज़िन्दगी का सहारा ना हुआ मिलते हैं बहुत लोग इस तनहा ज़िन्दगी में पर हर दोस्त आपसा प्यारा ना हुआ !

खुदा से कोई बात अंजान नहीं होती, इन्सान की बंदगी बेईमान नहीं होती. कही तो माँगा होगा हमने भी एक प्यारा सा दोस्त वर्ना यूंही हमारी आपसे पहचान न होती.

जिन्गदी नहीँ हमेँ दोस्तोँ से प्यारी दोस्तोँ पे है हाज़र जान हमारी आँखोँ में हमारे आँसू हो तो क्याँ जान से भी प्यारी है मुस्कान तुम्हारी!

दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं! तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं! यूँ तो मिल जाता है हर कोई! मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!

दोस्ती इन्सान की ज़रुरत है! दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है! आपके प्यार की वजह से जिंदा हूँ! वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है!

Also Read

Leave a Comment